in , , , , , ,

प्रदेश में सस्ते राशन के डिपुओं में जल्द शुरू होगी लोकमित्र केंद्रों की तरह की सुविधाएं

शिमला।

सस्ते राशन के डिपुओं में जल्द ही उपभोक्ताओं को अब लोकमित्र केंद्रों की तरह की सुविधाएं मिलेंगी। उपभोक्ता अब अपने पानी, बिजली बिल, जमा करवाने सहित लैंड रिकाॅर्ड सहित अन्य कार्य भी डिपुओं में करवा सकेंगे। इसके लिए डिपुओं में कॉमन सर्विस सैंटर खुलने जा रहे हैं। इसके लिए खाद्य नागरिक आपूर्ति विभाग ने जिला नियंत्रकों से प्रदेश भर में डिपो संचालकों का रिकाॅर्ड भी मांगा है कि यदि कोई डिपो संचालक डिपो में कॉमन सर्विस सैंटर खोलना चाहता है तो इसकी जानकारी जिला नियंत्रक के पास भेजें।

डिपो संचालकों के लिए डिपो में कॉमन सर्विस सैंटर खोलना अनिवार्य नहीं किया है लेकिन यदि कोई डिपो संचालक यह सर्विस लेना चाहता है और सैंटर खोलना चाहता है तो वह आसानी से यह सैंटर स्थापित कर सकता है। इसके लिए लोकमित्र केंद्र की ओर से डिपो संचालकों को ट्रेनिंग भी दी जाएगी। डिपुओं में इस सुविधा के शुरू होने से जहां लोगों को घर द्वार लोकमित्र केंद्र में मिलने वाली सुविधा मिलेगी। वहीं डिपो संचालकों की कमीशन हासिल कर आमदनी भी होगी और उनकी आर्थिक स्थिति मजबूत हो सकेगी।

डिपुओं में कॉमन सर्विस सैंटर की सुविधा शुरू होने के बाद उपभोक्ता डिपो संचालक से जरूरत पड़ने पर पॉस मशीन स्वाइप कर कैश भी ले सकेंगे। यानी डिपुओं में उपभोक्ताओं को बैंक कॉरसपोंडैंट की सुविधा मिलेगी। जिसमें डिपो संचालक अपनी स्वाइप मशीन से उपभोक्ता का एटीएम कार्ड स्वाइप कर कैश भी हासिल कर सकेंगे। जिसकी कमीशन भी डिपो संचालक को मिलेगी। इस सुविधा से प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को सुविधा होगी और उन्हें नकद राशि निकालने के लिए बाजार या गांव से दूर नहीं जाना होगा। उन्हें उनके घर द्वार डिपो में ही कैश उपलब्ध हो जाएगा।

डिपुओं में कॉमन सर्विस सैंटर खुलने के बाद डिपुओं में 5 किलो के गैस सिलैंडर भी रख सकेंगे। हालांकि इसे रखने व बेचने के लिए डिपो संचालकों को बाध्य नहीं किया जाएगा लेकिन सैंटर खुलने के बाद वह यह बेच सकेंगे। जिसके लिए डिपो संचालकों को कंपनी की ओर से कमीशन भी मिलेगी और डिपो संचालक आर्थिक रूप से सक्षम होंगे।

स्टेट हैड सीएसएस हिमाचल अशोक चौहान ने बताया कि डिपुओं में लोकमित्र की तरह सुविधाएं मिलेंगी। इसके लिए डिपुओं में कॉमन सर्विस सैंटर खोले जाएंगे। इसमें सबसे मुख्य सुविधा यह होगी कि डिपो संचालक डी-जी पे एप की सहायता से बैंक कॉरसपोंडैंट की सुविधा दे सकेंगे। जैसे-जैसे डिपो संचालकों की डिमांड सैंटर खोलने के लिए आएगी। प्रदेशभर में यह सैंटर डिपुओं में खोले जाएंगे।

आप इस बारे में क्या विचार हैं? अपनी राय देने के लिए यहाँ क्लिक करे

Written by HimNewz

प्रातिक्रिया दे

बिलासपुर : ग्राम पंचायत पपलाह में 2407.3 लाख रुपये के विकास कार्य प्रगति पर – राजिन्द्र गर्ग

बडी खबर : प्रदेश में बिना लाइसेंस कोई भी ड्रोन नहीं उड़ा पाएगा